बिहार राज्य

ONLINE हुआ बिहार राज्य महिला आयोग,घर से ही शिकायत कर सकेंगी महिलाएं

बिहार में महिलाओं (WOMEN) पर अत्याचार (Atrocity) करने वालों की खैर नहीं,क्योंकि बिहार राज्य महिला आयोग अब ऑनलाइन (ONLINE) हो गया है।पीड़ित महिलाएं राज्य के किसी भी हिस्से से आयोग की वेबसाइट पर जाकर अपने खिलाफ हो रही ज्यादतियों की शिकायत दर्ज करा न्याय मांग सकती है।

पटना-बिहार राज्य महिला आयोग (BIHAR STATE WOMEN COMMISSION) अब हाईटेक (High tech) हो गया है।घरेलू हिंसा,छेड़छाड़ और महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों से जुड़ी परेशानियों के लिये बिहार राज्य महिला आयोग में पूरे बिहार से फरियादी महिलाएं आती हैं।अब तक अपनी शिकायत (Complaint) दर्ज करने के लिये महिलाओं को आयोग तक आना पड़ता था,लेकिन अब बिहार राज्य महिला आयोग ऑनलाइन हो गया है।अब फरियादियों को शिकायत दर्ज कराने के लिए कार्यालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे,बल्कि अब सीधे आयोग की वेबसाइट पर अपनी शिकायत दर्ज करा पाएंगे।इसके लिये उन्हें! www.mahilaayogbihar.in पर जाना होगा।

आयोग में रोजाना 70 से 80 शिकायतें आती हैं

बिहार राज्य महिला आयोग में पूरे बिहार से रोजाना लगभग 70-80 मामले महिला आयोग में आते हैं, जिनकी सुनवाई एक दिन में अगर नहीं हो पाती है,तो शिकायतकर्ताओं को परेशानी उठानी पड़ती है,फिर उन्हें दूसरी तारीख पर आना पड़ता है।कई बार अपने मामले में हुई कारवाई के लिये भी शिकायतकर्ता को आयोग तक आना होता है।अब सब ऑनलाइन हो जाने से फरियादियों की ये परेशानी दूर हो जाएगी।वेबसाइट पर ही फरियादी और दूसरे पक्ष को सुनवाई की अगली तारीख मिल जाएगी।समाज के डर से जो महिलाएं शिकायत दर्ज कराने के लिए आयोग तक नहीं पहुंच पाती हैं,वो भी अब महिला आयोग कि वेबसाइट पर अपनी शिकायतें दर्ज करा पाएंगी।

बिहार राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा दिलमणी मिश्रा ने बताया की वेबसाइट को तैयार होने में लगभग एक साल का वक्त लग गया।राज्य महिला आयोग को ऑनलाइन करने की कवायद काफी दिनों से चल रही थी। अब महिलाओं के लिये शिकायत करना और आसान हो गया है।इमरजेंसी से लेकर हर तरह के केस को लेकर हम सजग हैं।

ऐसे काम करती है वेबसाइट

इस वेबसाइट के होम पेज पर अलग-अलग जानकारियों से जुड़े आइकन बने हैं।किसी महिला को शिकायत दर्ज करनी है,तो वो हेल्पलाइन नंबर 181 पर कॉल कर सकती हैं या ‘रजिस्टर कंप्लेन’ के आइकन पर क्लिक करके अपनी समस्या को कम शब्दों में लिखकर अपना नाम,पता, मोबाइल नंबर देकर ‘सबमिट’ कर सकती हैं।इसके तुरंत बाद उन्हें वाद-संख्या यानी एक एप्लिकेशन नंबर मिल जाएगा और समस्या की गंभीरता के हिसाब से उनके मामले की सुनवाई तय हो जाएगी और उन्हें उसकी तारीख मिल जाएगी। महिलाएं एप्लिकेशन स्टेटस में जाकर अपनी शिकायत पर हुई कारवाई की जानकारी ले पाएंगीं।इतना ही नहीं बल्कि बिहार राज्य महिला आयोग की टीम अध्यक्ष और सदस्य कौन से दिन किस क्षेत्र में हैं,ये जानकारी भी समय समय पर वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।इसका सीधा फायदा फरियादी को मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *