आध्यात्मिक बिहार राज्य

सावन माह में शिव पूजन का विशेष महत्व बाबा-भागलपुर, अध्यात्मिक सम्पादक, जानकारी जंक्शन

सावन माह में शिव पूजन का विशेष महत्व :- बाबा-भागलपुर, अध्यात्मिक सम्पादक, जानकारी जंक्शन

17 जुलाई (बुधवार) 2019 से सावन का महीना शुरु हो रहा है। इस महीने का पहला सोमवार 22 जुलाई को पड़ेगा। जिस दिन से लोग सावन सोमवार व्रत का आरंभ कर सकेंगे। उसके बाद दूसरा सावन सोमवार व्रत 29 जुलाई को तीसरा 05 अगस्त को चौथा सावन सोमवार व्रत 12 अगस्त को पड़ेगा। यानी इस वर्ष के सावन माह में चार सोमवार ही होंगे। इसके बाद गुरुवार 15 अगस्त को श्रावण मास का अंतिम दिन होगा। इस सम्बन्ध में शास्त्रोंक्त मतानुसार कहना कि 17 जुलाई (बुधवार) से भगवान शिव की अराधना करने वाला महीना यानी सावन माह शुरु होने वाला है। सनातन धर्म में इस महीने का विशेष महत्व होता है। हमारे पंचांग के अनुसार यह साल का पांचवा महीना होता है तो वहीं अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह जुलाई और अगस्त के बीच का महीना है। भगवान शिव का प्रिय सावन महीना पूजा-पाठ की दृष्टि से काफी महत्व रखता है। भक्त इन दिनों व्रत रखकर भगवान शिव की उपासना करते हैं।खासकर सावन में सोमवार व्रत का विशेष महत्व होता है। हमारे धार्मिक ग्रंथ शिव पुराण के अनुसार जो व्यक्ति सावन के महीने में सोमवार का व्रत रखता है, उसकी भगवान शिव सारी मनोकामना पूरी कर देते हैं। इस महीने में सावन स्नान की परंपरा है, जो पिछले कई दशकों से चली आ रही है। साथ ही इसी महीने भक्त कांवड़ यात्रा पर भी जाते हैं। कावड़ यात्रा पर जाने वाले शिव भक्तों को कांवरिया अथवा कांवड़िया कहते हैं। इस दौरान लाखों की संख्या में शिव भक्त हरिद्वार और गंगोत्री समेत अनेक धामों की यात्रा करेंगे। वे इन तीर्थ स्थलों से गंगा जल से भरी कांवड़ को अपने कंधों पर रखकर पैदल लाते हैं और बाद में वह गंगा जल शिव को चढ़ाया जाता है। साथ ही सावन के महीने में शिव भक्त ज्योर्तिलिंगों के दर्शन करने के लिए भी जाते हैं। जिसमें बाबा- वैद्यनाथ (देवघर), काशी, हरिद्वार, नासिक और उज्जैन समेत कई धार्मिक स्थल शामिल हैं।
सावन महीना शिवजी के साथ मां पार्वती को भी समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि जो भक्त इस महीने सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ भगवान शिव का व्रत धारण करते हैं, उन्हें शिव का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त होता है। शादीशुदा महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने और अविवाहित लड़कियाँ अच्छे वर की प्राप्ति के लिए भी सावन का व्रत रखती हैं। इतना ही जो भी श्रद्धालु विधिपूर्वक व्रत रखकर शिव-शक्ति की भक्ति करते हैं उन्हें मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। इसलिए सावन माह में मनायें भोलेनाथ को। जीवन में सुख-समृद्धि और शान्ति पाईयें।

गुरु कृपा केवलम्।

जय माँ जय माँ जय जय माँ।

           हo/

(दैवज्ञ पंo आरo केo चौधरी)
“बाबा-भागलपुर”
भविष्यवेत्ता एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ
संस्थापक
ज्योतिष योग शोध केन्द्र, बिहार।
मोबाईल नo:- 09430815864/
09835070591

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *