बिहार राज्य

सहरसा में सड़क निर्माण की स्थिति से प्रभारी सचिव असंतुष्ट

(सहरसा):-लापरवाही बरतने वाली निर्माण एजेंसियों पर होगी कार्रवाई

बिहार में पथ निर्माण की दिशा में काफी अच्छा काम हुआ है। बिहार की
सड़कें गुणवत्ता में किसी भी राज्य से कम नहींं हैंं, लेकिन सहरसा जिला में सड़कों की स्थिति अच्छी नहीं है। आमजन काफी परेशान हैं। इससे सरकार की छवि
धूमिल हो रही है। इस स्थिति को बर्दाशत नहीं किया जाएगा। कोताही बरतने वाले एजेंसियों पर कार्रवाई की जाएगी। प्रगति नहीं पाये जाने पर संंबंधित लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। यह बात सहरसा जिले के प्रभारी सचिव नर्मदेश्वर लाल ने कही।

वे बुधवार को यहां विकास भवन के सभाकक्ष में सड़क निर्माण से संबंधित सभी विभागों/एजेंसियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। प्रभारी सचिव ने पथ निर्माण विभाग से सहरसा नगर परिषद की हस्तांतरित सड़कों के निर्माण कार्य की धीमी प्रगति पर असंतोष व्यक्त करते हुए विलंब के कारणों के संबंध में जानकारी
ली। बताया गया कि पांंच सड़कों की निविदा के बाद तकनीकी स्वीकृति प्राप्त नहीं होने के कारण अब तक काम शुरू नहीं किया जा सका है। प्रभारी सचिव ने इसके विलंब पर कार्यपालक अभियंता से संबंधित लोगों से स्पष्टीकरण मांगने को कहा।

बैठक में नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी के बिना अनुमति के बैठक से अनुपस्थिति रहने पर प्रभारी सचिव ने स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिये। पथ निर्माण विभाग से सोनवर्षाराज बाईपास, सिमरी बख्तियारपुर बाईपास, बरियाही बाईपास की प्रगति के बारे में जानकारी ली गयी। बताया गया कि दो महीने में कार्य पूरे कर लिये जाएंगे।

जिलाधिकारी शैलजा शर्मा ने बताया कि एसएच-59 बैजनाथपुर सड़क निर्माण में अतिक्रमण हटाये गये हैं और भू-अर्जन की समस्या भी दूर कर ली गई है लेकिन संवेदक द्वारा काम नहीं किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने कहा कि एनएच के कार्यपालक अभियंता समीक्षा बैठक में भाग नहीं लेते हैं, जिसके कारण प्रगति की समुचित समीक्षा नहीं हो पाती है। प्रभारी सचिव ने कहा कि समीक्षा बैठक में नियमित भाग लें अन्यथा उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी ने बैठक में बताया कि जिला प्रशासन सड़क निर्माण कार्य में लगे सभी एजेंसियों की नियमित रूप से अनुश्रवण कर रहा है। नई एवं पुरानी सभी सड़कों की जांंच करायी जाएगी। प्रभारी सचिव ने
ग्रामीण कार्य विभाग से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, विश्व बैंक से वित्तीय पोषित सड़क निर्माण योजना एवं अन्य ग्रामीण सड़कों की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने मत्स्यगंधा के चारों ओर पथ निर्माण के संबंध में भी जानकारी ली।

बैठक में उप विकास आयुक्त, पथ निर्माण विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, पीएचईडी, विद्युत एवं अन्य तकनीकी विभागों के कार्यपालक अभियंता/सहायक अभियंता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *