वामपंथी दलों द्वारा पेट्रोल डीजल विधि के सवाल पर पूरे देश में धरना प्रदर्शन करके मांग पत्र माननीय राष्ट्रपति वह माननीय राज्यपाल महोदय को दिया गया मांग पत्र में मांग किया

0
4

डॉ0कल्प राम त्रिपाठी/ ब्यूरो चीफ जानकारी जंक्शन गोंडा

गोण्डा । गया की पेट्रोल डीजल के दाम प्रति लीटर 80 के पार हो गए हैं उसको तुरंत सरकार वापस ले विश्व में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में अभूतपूर्व गिरावट आई है इस गिरावट का आम जनता को लाभ मिल पाता इससे पहले ही केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल पर उत्पाद उत्पाद कर और बढ़ा दिया और राज्य सरकारों ने बैठ बढ़ा दिया रही सही कसर प्रतिदिन डीजल पेट्रोल की कीमतें बढ़ाकर तेल कंपनियों ने पूरी कर दी रसोई गैस की भी काफी हिम्मत काफी बढ़ गई विश्व में सर्वाधिक लगभग 69 परसेंटेज लिया जा रहा है पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ी कीमतों की मार से किसानों मजदूरों व्यापारियों ट्रांसपोर्टरों और आम जनता को राहत दिलाने के लिए वामपंथी दल द्वारा लगातार आवाज उठाई जा रही हैं वामपंथी दलों द्वारा देशभर में मूल वृद्धि के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया किया जा रहा है और उपरोक्त उपयुक्त सवालों पर आज हमारे जनपद सहित पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन आयोजित किए गए हैं ज्ञापन के माध्यम से आपके समक्ष नींद मांगे प्रेषित करते हैं नंबर 1 पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर हाल के सप्ताहों में बढ़ाए गए उत्पादों उत्पादों पर उत्पाद कार और बैट को तत्काल वापस लिया जाए नंबर दो पेट्रोल डीजल एवं रसोई गैस को पूर्व की मूल्य नियंत्रण प्रणाली द्वारा लागू किया जाए
महंगाई भ्रष्टाचार पर तुरंत रोक लगाई जाए
आयकर के दायरे से बाहर समस्त परिवारों को हर माह रुपया 7500 उनके खाते में दिया जाए
उत्तर प्रदेश में चरमरा चुकी कानून व्यवस्था की हालत को नियंत्रित किया जाऐ । दलितों महिलाओं और अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न रोका जाए।
कोविड-19 अस्पतालों एवं एकांत केंद्रों की दयनीय व्यवस्थाओं के सुधार लाया जाए और अधिकारिक जांच किया जाए लोगों को मानवी संजीदगी से मुफ्त इलाज कराया जाए
जनता के हितों में आवाज उठाने वाली विपक्षी दलों और सामाजिक कार्यकर्ताओं का राजनीतिक उत्पीड़न बंद किया जाए।
अन्य गतिविधियों की तरह विपक्ष की राजनीतिक राजभरों को अल्लाह किया जाए।
कार्यक्रम में राजीव कुमार सत्यनारायण त्रिपाठी सीपीआई
ईश्वर शरण शुक्ला सीपीआई सीपीआई एम एल जमाल खान सीपीएम से कौशैलेंद्र पांडे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here