झारखण्ड राज्य

‘झारखण्ड सेवा रत्न’ अवॉर्ड से सम्मानित हुआ इटखोरी का लाल।

इटखोरी :(अनुज कुमार पाण्डेय):-काम कोई छोटा नहीं होता। काम चाहें रोजी रोटी के लिए किया जा रहा हो या फिर समाज सेवा को लेकर। काम तो कम होता है। पर एक बात सबसे ज्यादा अहम है कि काम को आप कैसे करतें हैं। क्योंकि वही काम आने वाले समय मे आपको अलग पहचान दिलाएगा । तभी तो आज एक सामान्य परिवार का एक युवक राजकीय ख्याति से सम्मानित किया गया।

चतरा जिले के इटखोरी निवासी रामचन्द्र सिंह ‘महथा’ के पुत्र विपिन कुमार सिंह को राज्य का सर्वोच्च सम्मान झारखंड सेवा रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। उक्त सम्मान समारोह का आयोजन शहीद स्मृति सभागार मोराबादी रांची में की गई। विश्व सेवा परिषद द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि नगर विकास मंत्री सीपी सिंह एवं कुलपति रांची विश्वविद्यालय के हाथों दिया गया।

उक्त सम्मान समाज सेवा के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने के लिए बिपिन कुमार सिंह को दिया गया। विदित हो कि
बिपिन कुमार सिंह बीआईटी मेसरा रांची के छात्र रह चुके हैं। इन्होंने बीआईटी मेसरा में राष्ट्रीय सेवा योजना (रा. से. यो.) से जुड़कर समाजसेवा के क्षेत्र में कई बेहतर कार्य किये। वे राष्ट्रीय सेवा योजना के दर्पण नाटय के प्रमुख थे।जिसमे वे समाज को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न अभियानों जैसे – पर्यावरण संरक्षण, वृक्षारोपण, रक्तदान शिविर, कौशल प्रशिक्षण, शिक्षा, स्वछता अभियान, निःशुल्क चिकित्सा शिविर इत्यादि छेत्र में बेहतर कार्य किये। बिपिन दर्पण ग्रुप के प्रतिनिधत्व करते हुए कई समाजिक नाटय के द्वारा ग्रामीणों में जागरूकता फैलाने का काम किये।

कला और संस्कृति में बनाई अलग पहचान-

बिपिन कुमार सिंह ने कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।
वे कई राष्ट्रीय स्तर के शिविरों में सहभागी बन प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। इसके अलावे भारत सरकार के खेल एवं युवा मंत्रालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय एकीकरण शिविर में भाग लेकर पूरे राज्य का मान बढ़ाया है साथ हीं
इन्होंने राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तरो के कई नाटकों का मंचन किया है।जिससे राजकीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर कई पदक भी अपने नाम किए हैं। भारत सरकार के खेल एवं युवा मंत्रालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय एकीकरण शिविर में कलाकार एवं निर्देशक कि भूमिका अदा करते हुए अपने राज्य के लिए स्टैंडिंग ओवेशन अवॉर्ड से सम्मानित हुए। खास बात यह है कि ये अपने जन्मभूमि पर दो बार लगातार राजकीय इटखोरी महोत्सव में भाग लेकर कला का मंचन बतौर निर्देशक के रूप में किया। जिसके लिए इन्हें महोत्सव में सम्मानित भी किया गया।बताते चले कि प्रतिभा के धनी बिपिन कुमार सिंह पढ़ाई में भी अव्वल हैं।ये वर्तमान में भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र परमाणु ऊर्जा विभाग के राष्ट्रीय यूरेनियम परियोजना के जूनियर रिसर्च फेलो ( जे. आर. एफ.) के पद पर बीआईटी मेसरा के रसायन शास्त्र विभाग में कार्यरत हैं। इन्होंने बीआईटी मेसरा से 2018 में रसायन शास्त्र विज्ञान से पोस्ट ग्रेजुएट की पढ़ाई पूरी की है।
उन्होंने अपने सफलता का श्रेय एन.एस.एस बीआईटी मेसरा के कार्यक्रम समन्वयक डॉ ओम प्रकाश पाण्डेय, मृणाल पाठक राष्ट्रपति से सम्मानित प्रशांत कुमार एवं रवि कुमार को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *