राज्य

खाना-पीना और सोना भूल दिन-रात गेम में डूबे रह रहे हैं युवा-किशोर

नासरीगंज(रोहतास):– पबजी गेम युवाओं के लिए दिन ब दिन घातक होता जा रहा है.युवा पीढ़ी इस गेम की बुरी लत में फंसकर दुनियादारी से बेखबर हो रहे है.इस गेम में डूबे रहने के कारण किसी की तबीयत बिगड़ रही है तो किसी की भूख मिट रही है.पढ़ाई,लिखाई और घर परिवार से दूर बस एक अजीब सी खामोशी में हेडफोन पर बुदबुदाते हुए मोबाइल और एक गेम प्लेयर.ऐसे में कोई आ न पाए, सिवाय एक दूर दराज के ऑन लाइन पार्टनर के और फिर गेम शुरू.पबजी खेलने वालों को नींद भी नहीं प्रभावित कर पा रही है.जो जहां है वहीं से इस गेम को ऑनलाइन खेल रहा है और वक्त बर्बाद कर रहा है.इस गेम में रमे रहने वाले प्लेयर्स के अभिभावक चिंतित हैं.आज के बच्चे बड़ी तेजी से पबजी गेम के शिकार हो रहे हैं.इस गेम को लगातार खेलते रहने के कारण बच्चों की आंखों पर बुरा असर पड़ रहा है.बच्चे पूरी तरह एकाग्रचित्त होकर इस गेम को खेलते हैं.मोबाइल के स्क्रीन पर उनकी आंखें टिकी रहती हैं,जिसके कारण उनके ड्राई हो जाने का खतरा है.साथ ही इसके कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं.

क्या है पबजी :

यह एक ऑनलाइन मल्टीप्लेयर बैटल रॉयल गेम (शाही युद्ध खेल) है.इसमें दो या दो से अधिक लोग एक साथ गेम खेलते हैं.इसमें ज्यादातर फायरिंग और एनकाउंटर से रिलेटेड गेम होता है.इस गेम में तरह-तरह के वैपन्स का इस्तेमाल होता है.इस गेम को पबजी कॉर्पोरेशन ने दक्षिण कोरियाई कंपनी ब्लू होल के सहयोग से इजाद किया है.इसके निर्माता चांग हैन कीम हैं और इस खेल को ब्रैंडन ग्रीन ने डिजाइन किया है.इसके प्लेयर्स ऑनलाइन होते हैं और घंटों वक्त जाया करते हैं.

रोहतास से राहुल मिश्रा की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *